भागीदारी के क्षेत्र

जलविद्युत परियोजनाएं

कार्यक्षेत्र

  •   व्यवहार्यता अध्ययन।
  •   विस्तार परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर-भूविज्ञान) की तैयारी।
  •   यथावत तनाव माप।
  •   विकृति और कतरनी शक्ति मापदंडों का मापन।
  •   त्री आयामी सतति और असतति संख्यात्मक प्रतिरूपण का उपयोग कर कई गुफाओं की स्थिरता का विश्लेषण।
  •   पार सुरंग और स्तम्भ स्थिरता का विश्लेषण।
  •   शिला द्रव्यमान को न्यूनतम क्षति के साथ गुफाओं के निष्कर्षण के लिए उत्खनन पद्धति कि योजना ।
  •   बोरहोल टीवी कैमरा अध्ययन।
  •  जीपीआर और भूकंपीय अध्ययनों के उपयोग से दरारों का पता लगाना।
  •  बिजलीघर परिसर का सूक्ष्म भूकंपीय निरीक्षण।
  •  गुफाओं, क्रॉस सुरंगों, विलुप्त होने वाले कक्षों, एचआरटी, टीआरटी, सर्ज कूपक, प्रेशर कूपक और अन्य सुरंगों का उपकरण, निगरानी और डेटा विश्लेषण।
  •  भूमिगत संरचनाओं की दीर्घकालिक निगरानी।
  •  बांध की भू-गणितीय निगरानी।