सहकर्मी समीक्षा समिति

सहकर्मी समीक्षा समिति

संस्थान की सभी शोध गतिविधियों की समीक्षा उद्योग, अनुसंधान एवं विकास और अकादमिक क्षेत्रों से प्रख्यात तकनीकी व्यक्तियों द्वारा की जाती है । वे संस्थान की सहकर्मी समीक्षा समिति(पीआरसी) का भी गठन करते हैं । वे संस्थान को उत्कृष्टता का केंद्र बनाने के उद्देश्य से अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों की समीक्षा करते हैं । सहकर्मी समीक्षा समिति के जनादेश निम्नानुसार है :-

  1. संस्थान के विभिन्न गतिविधियों (परियोजनानुसार) की समीक्षा ।
  2. सुविधाओं मे उन्नयन का सुझाव देना, यदि कोई आवश्यक होतो ।
  3. विकास / अनुसंधान के नए क्षेत्रों की पहचान करना।
  4. एसएसएजी, खान मंत्रालय के लिए अनुसंधान एवं विकास परियोजना प्रस्तावों की समीक्षा और सिफारिश करना ।
  5. पूंजी उपकरणों की खरीद की समीक्षा और अनुशंसा करना ।
  6. शासी निकाय द्वारा संदर्भित किसी भी अन्य वैज्ञानिक मामलों को देखना ।

सहकर्मी समीक्षा समिति का कार्यकाल तीन वर्ष की अवधि के लिए होता है । सहकर्मी समीक्षा समिति के वर्तमान संविधान जनवरी २०१७ से दिसंबर २०१९ तक है।समिति के सदस्य निम्नानुसार हैं:-

  1. प्रो बी बी धर, पूर्व निदेशक(सी.आई.एम.एफ.आर.)-अध्यक्ष
  2. प्रो। वीआर शास्त्री, एन आई टी, सुरतकल वैकल्पिक अध्यक्ष
  3. पडीडीजी (डीजीएमएस), दक्षिणी क्षेत्र [श्री एके मेघराज], सदस्य
  4. पईडी (खान) [श्री सैयद अब्दुल फतेह खालिद], एनएलसी, नेवेली, सदस्य
  5. पजीएम,आरजी – क्षेत्र3[डॉ एम एस वेंकट रामाय्या],एस सी सी एल-मेम्बर
  6. पप्रो। वी एम एस आर मूर्ति,आई एस एम (आईआईटी),धनबाद – सदस्य
  7. पसीई (डिजाइन - एन एंड डब्ल्यू),[श्री टीके शिवराजन],सीडब्ल्यूसी,नई दिल्ली,सदस्य
  8. पप्रो।टी जी सीतारम,आई आई एस सी,बेंगलुरू,सदस्य
  9. पश्री ए सुंदरमुर्ति,पूर्व-डी जी(सेवानिवृत्त),जी एस आई –सदस्य
  10. पनिदेशक, राष्ट्रीय शिला यांत्रिकी संस्थान,सदस्य